नई दिल्ली: सुबह उठने के बाद रूटीन पर ZEE NEWS के ImmunityConclaveOnZee में स्वामी रामदेव ने कहा कि सुबह उठकर सबसे पहले उकड़ू बैठकर पानी पिएं. हो सके तो पानी में आंवला या गिलोय मिला लें. कभी भी खड़े होकर पानी ना पिएं. इसके अलावा कुल्ला करके पानी ना पिएं, मुंह की लार को पेट में जाना चाहिए वो पाचन के लिए अच्छी होती है.

जिनको एसीडिटी हो वो लौकी का जूस पिएं. डायबिटीज वाले खीरा, करेला का जूस पिएं. सुबह दातून करें या आयुर्वेदिक मंजन करें.

एक जैसा तेल और अनाज ना खाएं. जैसे किसी दिन सरसों का तेल खाए, सन फ्लॉवर या सोयाबीन का तेल खाएं. वैसे ही खाने में कभी सुबह जूस लें, फल खाए या किसी दिन पराठे भी खा सकते हैं.

दूध रात में लें, रात में दही छाछ ना लें. दूध के साथ नमक ना लें.

यदि सुबह खाना नहीं खाया है और अपने प्राइवेट वाहन में ऑफिस जाते हैं तो रास्ते में कपालभाति कर सकते हैं. खाने के 15 मिनट भी कर सकते हैं. ऑफिस में कुर्सी पर बैठे-बैठे ही पैरो को हिला लें.

स्वस्थ्य रहन के लिए बार-बार ना खाएं, इससे पाचन बिगड़ता है. 6 घंटे से ज्यादा ना सोएं. मैं भी ऐसी ही करता हूं मुझे कभी कोई दिक्कत नहीं आई.

वैदिक सनातन धर्म कोई धर्म नहीं है ये जीवन जीने की पद्धति है. चारों तरफ दवाई, नशा, राजनीति माफिया हैं. योग करने से हम आत्मनिष्ठ रहेंगे. हमें कोई डिगा नहीं सकेगा. यहां बहुत लोग भटकाने लगे हैं.

ये भी पढ़ें- #ImmunityConclaveOnZee: आचार्य प्रतिष्ठा शर्मा ने बताई स्पेशल काढ़े की रेसिपी

दुर्आहार के कारण ही कोरोना पैदा हुआ है, ऐसा चलता रहा तो फिर से भी कुछ नया आ सकता है इसीलिए शुद्ध चीजों को ही खाएं.

योग कोई धर्म की बात नहीं है. आधे से ज्यादा खर्चा दवाइयों और नशे में होता है. योग करने से ये बचेगा, इस पैसे को अपने परिवार के कल्याण में लगाएं.

पूरी दुनिया में बीपी की कोई दवाई नहीं है. हमारे पास संघपुष्पी है. उससे हम ब्लड प्रेशर ठीक कर सकते हैं. अभी जो दवाइयां दुनियाभर में हैं वो बीपी का मैनेजमेंट करती हैं ठीक नहीं करती हैं.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here